दिनेश दधीचि – पाब्लो नेरुदा की Sonnet XVII का अनुवाद

0

पाब्लो नेरुदा अनुवाद दिनेश दधीचि

सॉनेट सत्रह

मुझे प्यार है तुमसे अनबूझा अनजाना
कैसे कब और कहाँ से हुआ, नहीं जानता ।
सीधे-सीधे प्यार किया करता हूँ तुमसे
नहीं जटिलता इसमें औ’ अभिमान नहीं है।
तो, तुमसे है प्यार सिर्फ़ इसलिए कि इसके
सिवा नहीं मालूम मुझे कोई भी तरीक़ा
जहाँ ‘मैं’ नहीं है, तुम भी अस्तित्वहीन हो
इतनी हो नज़दीक कि मेरे सीने पर यह
हाथ तुम्हारा मेरा ही है हाथ ये जैसे
इतनी हो नज़दीक कि जब मैं सोता हूँ, तो
नयन तुम्हारे मुँद जाते हैं अनायास ही!

 

 

 

Pablo Neruda

Sonnet XVII

I love you without knowing
how, or when, or from where.
I love you straightforwardly,
without complexities or pride;
so I love you because I know
no better way than this:
where I does not exist, nor you,
so close that your hand
on my chest is my hand,
so close that your eyes close
as I fall asleep.

 

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.