Tel: +91 9416482156
Email: desharyana@gmail.com
Home साहित्य विमर्श

साहित्य विमर्श

और सफर तय करना था अभी तो, सरबजीत!

ओम प्रकाश करुणेश  (कथाकर व आलोचक सरबजीत की असामयिक मृत्यु पर लिखा गया संस्मरण) सरबजीत के साथ पहली मुलाकात ठीक ठाक से तो याद नहीं, पर खुली-आत्मीय...

  जातीय आधार पर आरक्षण आंदोलन का दर्द –खोया हुआ विश्वास

विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’ वरिष्ठ साहित्यकार आनंद प्रकाश ‘आर्टिस्ट’ ने ‘खोया हुआ विश्वास’ उपन्यास में जातीय आधार पर आरक्षण आंदोलन को वर्ण्य-विषय बनाकर वर्तमान ज्वलंत समस्या...

हाशिये के लोगों की औपन्यासिकता का विमर्श

प्रोफेसर सुभाष चन्द्र  वीरेन्द्र यादव रचित  'उपन्यास और वर्चस्व की सत्ता' पुस्तक हिन्दी आलोचना और विशेषकर उपन्यास आलोचना के लिए महत्त्वपूर्ण है। आधुनिक काल के...

हम ढूंढते फिरे जिन्हें खेतों और गलियों में

ओमसिंह अशफाक  शमशेर बहादुर सिंह  (13-1-1911—12-5-1993) आज से करीब 64 साल पहले मैं शमशेर के इलाके में ही पैदा हुआ था। उनके पैतृक गांव ऐलम (मुज्जफरनगर) से...

विश्व की समस्त भाषाओं के बारे में सार्वभौमिक सत्य

प्रोफेसर सुभाष चंद्र, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र जब लोग इकट्ठे होते हैं तो बात ही करते हैं। जब वे खेलते हैं, प्यार करते हैं। हम भाषा...

रात भर लोग अंधेरे की बलि चढ़ते हैं

ओमसिंह अशफाक  आबिद आलमी (4-6-1933—9-2-1994) पिछले दिनों अम्बाला में तरक्की पसंद तहरीक में 'फिकोएहसास के शायर' जनाब आबिद आलमी हमसे हमेशा के लिए बिछड़ गए। उनका मूल...

हिंदी साहित्य अध्ययन-अध्यापनः चुनौतियां और सरोकार

प्रोफेसर सुभाष चंद्र, हिंदी विभाग, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय,कुरुक्षेत्र  1922-25 के आस-पास बी.एच.यू. और इलाहाबाद में हिन्दी विभाग खुलने शुरू हुए थे। अभी  उच्च शिक्षा में एक...

ओमसिंह अशफाक – पितृतुल्य प्रो. शिव कुमार मिश्र

      शिव कुमार मिश्र (2-2-1931—21-6-2013) जी का जाना हिन्दी जगत में सक्रिय विमर्श और रचनात्मक आलोचना के एक स्तम्भ का उखड़ जाना है। समकालीन परिदृश्य...

ओमसिंह अशफाक – नव जागरण के अग्रदूत डॉ. ओ.पी. ग्रेवाल

स्मृति आलेख नव जागरण के अग्रदूत -डॉ० ओ.पी. ग्रेवाल (6-6-1937—24-1-2006) (हरियाणा की मिट्टी के सलौने-सपूत, नवजागरण के अग्रदूत डा. ओ.पी. ग्रेवाल का साढ़े 68 साल की नाकाफी...

हिंदी दलित साहित्य – 2018

बजरंग बिहारी तिवारी हिंदी दलित साहित्य : 2018      अन्य भारतीय भाषाओँ की तुलना में हिंदी दलित साहित्य इस मायने में भिन्न है कि यहाँ रचनाकारों...