Tel: +91 9416482156
Email: desharyana@gmail.com
Home सामयिक

सामयिक

खाप पंचायत – वर्तमान स्वरूप

डी.आर. चौधरी एक सर्वेक्षण के अनुसार भारत में हर साल सम्मान के नाम पर लगभग एक हतार हत्याएं होती हैं । इसमें 900 हत्याएं पंजाब,...

राजेंद्र सिंह ‘सोमेश’ – हरियाणाः तब और अब

समाज हरियाणा का वर्तमान स्वरूप एक नवम्बर सन् उन्नीस सौ छियासठ को मिला। तब से लेकर अनेक उतार-चढ़ावों को पार करते इस प्रांत ने कई...

नरेश कुमार – हरियाणा में स्कूली शिक्षा की बिगड़ती स्थिति

हरियाणा में स्कूली शिक्षा की तस्वीर आए दिन लगातार धुंधली होती जा रही है। हाल ही में राज्य सरकार ने प्रदेश में 25 हजार...

धर्मवीर सिंह – गरीबी उन्मूलन कार्यक्रम नहीं आरक्षण

बीच बहस में डीएसपी ऑफिस से निकलते ही उस सिपाही के चेहरे पर गुस्से और हिकारत का भाव था। गेट पर खड़े उसके साथी संतरी...

डा. सुभाष चंद्र – मंहगाई डायन खाए जात है

मंहगाई की प्राकृतिक आपदा या संकट नहीं है, बल्कि इसके पीछे निहित स्वार्थ हैं। वे स्वार्थ हैं अधिक से अधिक लाभ कमाने के। पूंजीवादी...

विकास साल्याण – अलीगढ़ : समलैंगिकता पर विमर्श

समलैंगिकता को अलग-अलग दृष्टि से देखा जाता है कुछ समलैंगिकता को मानसिक बीमारी मानते हैं। कुछ इसे परिस्थितियों के कारण उत्पन्न आदत मानते हैं...

सुरेश बरनवाल – मजदूर बनाम राष्ट्र

कविता यह भी तो एक युद्ध है कि एक मजदूर दिन भर की दिहाड़ी के बाद आधा राशन लिए घर लौटता है। उसके बच्चे हर रोज युद्धभूमि में उतरते हैं हसरतों...

नोटबंदी के समय उल्लू बने लोग हाज़िर हों, 99.3 प्रतिशत पैसा बैंकों में वापस...

भारतीय रिज़र्व बैंक की रिपोर्ट आई है कि नोटबंदी के वक्त 15.41 लाख करोड़ सर्कुलेशन में था, जिसमें से 15.31 लाख करोड़ वापस आ...

मैं मार्क्सिस्ट विचार को मानता हूं, लेकिन इससे मैं नक्सली नहीं हो जाता :...

https://khabar.ndtv.com/news/india/i-believe-in-the-marxist-idea-but-this-does-not-make-me-naxal-teltumbde-1908325?type=news&id=1908325&category=india मुंबई: मानवाधिकार कार्यकर्ता आनंद तेलतुंबड़े ने कहा है कि 'जो येसरकार कर रही है वह डरावना है. मैं बचपन से एक्टिविस्ट हूं. पहले की सरकारों के...

सुर्खियां: आपातकाल आज से कम ख़तरनाक था – रोमिला थापर

bbchindi.com से... पांच मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ़्तारी पर सवाल उठाते हुए सुप्रीम कोर्ट में जिन पांच लोगों ने याचिका दाख़िल की थी, उनमें इतिहासकार रोमिला...