placeholder

आकशदीप- जयशंकर प्रसाद

‘आकाशदीप’ जयशंकर प्रसाद की बहुचर्चित कहानी है. यह कहानी ‘आकशदीप’ नामक कहानी संग्रह में संकलित है जिसका प्रकाशन सन् 1929 में हुआ था. कहानी की नायिका चम्पा को अपने पिता के हत्या के आरोपी बुधगुप्त से ही प्रेम हो जाता है. इस कहानी में प्रसाद जी ने कर्तव्य और प्रेम के मध्य अंतर्द्वन्द्व को चित्रित किया है.

placeholder

अपना अपना भाग्य- जैनेन्द्र

अपना-अपना भाग्य कहानी 1931 ई० लिखी गई थी, जो ‘वातायन’ कहानी संग्रह में संकलित है। यह कहानी संवाद शैली में लिखी गई है। इस कहानी में जैनेन्द्र ने मध्यवर्गीय समाज में व्याप्त स्वार्थपरकता को उजागर किया है. इस कहानी में गुलाम भारत के शहर नैनीताल के परिवेश का चित्रण मिलता है.

placeholder

मारे गए गुलफाम उर्फ़ तीसरी कसम- फणीश्वर नाथ रेणु

‘मारे गए गुलफाम उर्फ़ तीसरी कसम’ फणीश्वर नाथ रेणु की सबसे प्रचलित कहानी है. इस कहानी के आधार पर एक फीचर फिल्म का भी निर्माण किया गया था. यह कहानी नायक हिरामन और नायिका हिराबाई के निश्चल प्रेम की कहानी है. रेणु ने लोक संस्कृति का पुट देकर कहानी को जीवंत बना दिया है.

placeholder

गैंग्रीन /रोज- अज्ञेय

‘रोज़’ शीर्षक कहानी अज्ञेय के कहानी संकलन ‘विपथगा’ के पहले संस्करण में है। पर ‘विपथगा’ के पाँचवें संस्करण में, जो सन् 1990 ई. में नेशनल पब्लिशिंग हाउस, दिल्ली द्वारा प्रकाशित हुआ, यही कहानी ‘गैंग्रीन’ शीर्षक से प्रकाशित है। इस कहानी में अज्ञेय ने मध्यवर्गीय जीवन में नित्य की दिनचर्या के कारण व्याप्त एकरसता तथा उबाऊपन को चित्रित किया है. इस कहानी को ‘नई कहानी’ की पूर्व पीठिका के रूप में जाना जाता है.

placeholder

लाल पान बेगम- फणीश्वर नाथ रेणु

‘ठुमरी’ संग्रह में संकलित ‘लाल पान की बेगम’ सन् 1956 की कहानी है। इलाहाबाद से प्रकाशित ‘कहानी’ पत्रिका के जनवरी, 1957 के अंक में यह प्रकाशित हुई थी। पुंज प्रकाश ने इस कहानी का नाट्य रूपान्तरण भी किया है, जिसे सन् 2017 में—शारदा सिंह के निर्देशन में—पटना के ‘कालिदास रंगालय’ में मंचित किया गया। बिरजू की माँ के द्वारा ‘स्त्री सशक्तिकरण’ की मिशाल पेश की गई है। इस कहानी में बिरजू की माँ अपनी जिन्दगी अपने शर्तों पर जीती है, पूरे आत्मसम्मान एवं ठसक के साथ। (स्त्रोत- इन्टरनेट)

placeholder

कोसी का घटवार- शेखर जोशी

‘कोसी का घटवार’ शेखर जोशी की प्रसिद्ध कहानियों में से एक है. इसका प्रकाशन सन् 1958 में हुआ था. यह कहनी सामाजिक पिछड़ेपन की वजह से अधूरे रह गए प्रेम पर आधारित है. कहानी में पहाड़ी परिवेश का चित्रण कहानी को जीवंतता प्रदान करता है.

placeholder

अमृतसर आ गया है- भीष्म साहनी

‘अमृतसर आ गया है’ कहानी समकालीन कहानीकारों में अग्रणी भीष्म साहनी के ‘पहला पाठ’ कहानी संग्रह में संकलित है. हिंदी की भारत- पाक विभाजन आधारित कहानियों में यह कहानी अत्यंत प्रसिद्ध हुई है. इस कहानी में विभाजन के कारण एक चलती हुई रेल में उत्पन्न हुए सांप्रदायिक माहौल का चित्रण किया गया है.

placeholder

चीफ की दावत- भीष्म साहनी

भीष्म साहनी की कहानी ‘चीफ की दावत’ 1957 में प्रकाशित उनके कहानी संग्रह ‘पहला पाठ’ की सर्वाधिक चर्चित कहानी है. इस कहानी में भीष्म सहनी ने एक कम्पनी में काम करने वाले बेटे की मध्यवर्गीय मानसिकता को चित्रित किया है जिसमें वह अपनी माँ को अपने अधिकारी के समक्ष अप्रस्तुतियोग्य समझता है. अपने अपमान के बावजूद भी माँ अपने बेटे की उन्नति की ही कामना करती है.

placeholder

सिक्का बदल गया- कृष्णा सोबती

देश विभाजन से संबंधित कृष्णा सोबती की कहानियों में सबसे चर्चित एवं प्रसिद्ध कहानी है- “सिक्का बदल गया” है। इसका प्रकाशन ‘प्रतीक’ में 1948 में हुआ था। इस कहानी की मुख्य पात्र शाहनी नाम की एक पचास वर्षीय बुजुर्ग औरत है जो कि भारत-पाक विभाजन के कारण अपना घर-बार, खेत खलिहान छोड़कर विस्थापित होने पर मजबूर है. इस कहानी के केंद्र में विभाजन से उपजी त्रासदी ही है.

placeholder

इंस्पेक्टर मातादीन चाँद पर – हरिशंकर परसाई

‘इंस्पेक्टर मातादीन चाँद पर’ हरिशंकर पारसी की महत्वपूर्ण व्यंग्य प्रधान कहानी है. यह कहानी पारसी के कहानी संग्रह ‘ठिठुरता हुआ गणतंत्र’ में शामिल है. इस कहानी में परसाई जी भारतीय पुलिस व्य्चव्स्था तथा उसमें व्याप्त भ्रष्टाचार पर व्यंग्य करते हैं.