placeholder

साहित्य का स्व-भाव और राजसत्ता – बजरंग बिहारी तिवारी

Post Views: 734 भारतीय मानस धर्मप्राण है इसलिए भारतीय साहित्य अपने स्वभाव में अध्यात्मवादी, रहस्यवादी है; यह धारणा औपनिवेशिक दौर में बनी। राजनीति में साहित्य की दिलचस्पी आधुनिक काल में…