Tag: kamla nand jha

परीक्षा से अधिक कठिन है मूल्यांकन – कमलानंद झा

Post Views: 1,379 मेरे बिहार (वैसे लगभग पूरे देश में) में मूल्यांकन के संदर्भ में एक फिकरा अत्यंत प्रसि़द्ध है कि एक साल की पढा़ई तीन घंटे की लिखाई और

Continue readingपरीक्षा से अधिक कठिन है मूल्यांकन – कमलानंद झा