उत्पीड़न घटना नहीं, बल्कि एक विचारधारा है

धर्म के क्षेत्र में भक्ति आत्मा की मुक्ति और मोक्ष का मार्ग हो सकता है , लेकिन राजनीतिक क्षेत्र में भक्ति या नायक पूजा पतन और तानाशाही का मार्ग होता है।उत्पीड़न घटना नहीं, बल्कि एक विचारधारा है। हम उत्पीड़न की जब हम बात करते हैं तो हम घटनाओं की बातकरते है तो उसकी जड़की और विमर्श की बात नहीं करते।

placeholder

सावित्री बाई फुले याद यो, कररया हिन्दुस्तान तनै

मुकेश यादव प्रथम शिक्षिका होणे का, देें गौरव-सम्मान तनै सावित्री बाई फुले याद यो, कररया हिन्दुस्तान तनै ज्योतिबा तै पढ़कै नै, मन म्हं यो अहसास हुया पीड़िता शोषित जनता का…