Tag: guru gobind singh

पंज प्यारे – जातिवाद पर कड़ा प्रहार और जनवाद का प्रतीक

अपना शीश देने के लिए तैयार हुए पांचों व्यक्तियों में से ज्यादा समाज द्वारा नीची समझी जाने वाली जातियों में थे और खासतौर पर दस्तकार थे। उनमें से एक खत्री था, एक जाट, एक धोबी, एक नाई और एक कुम्हार था। इस से पता चलता है कि गुरु गोबिंद सिंह जी को तमाम जातियों और खासकर छोटी समझी जाने वाली जनता का अपार समर्थन था। उसे मेहनतकश किसान और मजदूरों का समर्थन हासिल था। उसे व्यापारी वर्ग का समर्थन था। … Continue readingपंज प्यारे – जातिवाद पर कड़ा प्रहार और जनवाद का प्रतीक

‘लोकां दियां होलियां, खालसे दा होला ए' – पंजाब में होली नहीं मनाया जाता है होल्ला-मोहल्ला

‘लोकां दियां होलियां, खालसे दा होला ए’ – … Continue reading‘लोकां दियां होलियां, खालसे दा होला ए' – पंजाब में होली नहीं मनाया जाता है होल्ला-मोहल्ला