placeholder

विभाजन की यादें – अंशु मालवीय की गोपाल राम अरोड़ा से बातचीत

Post Views: 307 श्री गोपाल राम अरोड़ा, हिसार, हरियाणा में रहते है। सरकारी नौकरी से रिटायर हुए कई बरस बीत गए। पत्नी और बच्चों के साथ रहते हैं। हिसार में…

placeholder

हरियाणाः तब और अब – राजेंद्र सिंह ‘सोमेश’ 

Post Views: 221 हरियाणा का वर्तमान स्वरूप एक नवम्बर सन् उन्नीस सौ छियासठ को मिला। तब से लेकर अनेक उतार-चढ़ावों को पार करते इस प्रांत ने कई पड़ाव पार किए…

placeholder

हरियाणा में स्कूली शिक्षा की बिगड़ती स्थिति – नरेश कुमार

Post Views: 122 हरियाणा में स्कूली शिक्षा की तस्वीर आए दिन लगातार धुंधली होती जा रही है। हाल ही में राज्य सरकार ने प्रदेश में 25 हजार नए शिक्षकों की…

कब्रिस्तान की बेरियां -कुलबीर सिंह मलिक

Post Views: 271 कहानी मुल्क के बंटवारे के साथ हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच जो खून की होली खेली गई उसके कहर से उत्तर भारत का, विशेषत: पंजाब का, कोई…

placeholder

राजेन्द्र बड़गूजर – हरियाणा का लोक साहित्य : पचास साल

Post Views: 463 लोकधारा हरियाणा का लोक साहित्य एवं सांग परम्परा इस मायने में अत्यधिक महत्त्वपूर्ण हैं कि यह मनोरंजन एवं  सामाजिक जीवन  की उठा-पटक एवं संघर्ष का दिग्दर्शन कराते…

placeholder

हरियाणा का हाल

Post Views: 92 अरुण कुमार कैहरबा हरि के हरियाले प्रदेश हरियाणा का हाल सुणो, खरी-खरी कड़वी-सी बात और चुभते हुए सवाल सुणो। दूध-दही के खाणे वाला मीठा-मीठा गीत कहां सै,…

placeholder

आने वाले सालों में क्या – सुरेन्द्र पाल सिंह

Post Views: 159  गणतंत्र दिवस पर दिखाई जाने वाली झांकियों और लोक सम्पर्क विभाग द्वारा प्रस्तुत हरियाणा की स्टीरियो टाईप छवि से हटकर दैनंदिन जीवन की सकारात्मक या नकारात्मक बारीकियों…

placeholder

सुधीर शर्मा – मेरा नौकर वर ढुंढवाइए मेरी मां

Post Views: 431 हरियाणवी नृत्य गीत मेरा नौकर वर ढुंढवाइए मेरी मां विवाह योग्य होने पर परम्परागत समाज में अपना पति पसंद करने वाली युवतियों की भूमिका नहीं होती। पर…

placeholder

महिला की पूर्व निर्धारित भूमिका में बदलाव -सुमित सौरभ 

Post Views: 536 सामाजिक न्याय अपने निर्माण के पचास वर्षों के दौरान हरियाणा राज्य का तीव्र आर्थिक विकास हुआ है। विकास के माप हेतु निर्मित सूचकांक के विभिन्न सूचकों को…

placeholder

कहा था न -हर भजन सिंह रेणु

Post Views: 408 कविता मैंने तुम्हें कहा था न मत कर कबीर-कबीर और अब शहर के बाहर खड़ा रह अकेला। अपने फुंके घर का देख तमाशा हक सच की आवाज…