Tag: सुख-दुख

सुख-दुख- सुमित्रानंदन पंत

Post Views: 131 मैं नहीं चाहता चिर-सुख, चाहता नहीं अविरत दुख, सुख-दुख की आँख-मिचौनी खोले जीवन अपना मुख। सुख-दुख के मधुर मिलन से यह जीवन हो परिपूरन, फिर घन में

Continue readingसुख-दुख- सुमित्रानंदन पंत