placeholder

पोस्टर और आदमी- सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

Post Views: 46 मैं अपने को नन्हा-सा, दबा हुआ विशालकाय बड़े-बड़े पोस्टरों के अनुपात में खड़ा देख रहा हूँ, जिनकी ओर एक भीड़ देखती हुई गुज़र रही है, हँसती, गाती,…