Tag: समीक्षा

मलबे के नीचे दबा विकारग्रस्त समाज – अरुण कैहरबा

Post Views: 101 प्रख्यात सर्जन, प्रोफेसर, सामाजिक कार्यकर्ता और लेखक डॉ. रणबीर सिंह दहिया का उपन्यास मलबे के नीचे हरियाणा की सामाजिक व्यवस्था की सर्जरी करने का सफल प्रयास है।

Continue readingमलबे के नीचे दबा विकारग्रस्त समाज – अरुण कैहरबा

‘1947’ उपन्यास पर समीक्षात्मक टिप्पणी – नरेश कुमार

नरेश कुमार कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में शोधार्थी हैं। मानवीय संवेदना को गहरे स्तर पर प्रभावित करने वाले गद्य साहित्य में विशेष रूचि है।हाल ही में परमानन्द शास्त्री ने विभाजन की त्रासदी को सूक्ष्म स्तर पर अभिव्यक्त करने वाले परगट सिंह सतौज के उपन्यास ‘1947’ का हिंदी में अनुवाद किया है। उसकी समीक्षा नरेश कुमार ने प्रस्तुत की है- … Continue reading‘1947’ उपन्यास पर समीक्षात्मक टिप्पणी – नरेश कुमार

डॉ. गोपाल राय : मूल्यवादी कथा समीक्षा के प्रतिमान – डॉ. अमरनाथ

“हिंदी के आलोचक” शृंखला में कलकत्ता विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर और हिन्दी विभागाध्यक्ष डा. अमरनाथ ने 50 से अधिक हिंदी-आलोचकों के अवदान को रेखांकित करते हुए उनकी आलोचना दृष्टि के विशिष्ट बिंदुओं को उद्घाटित किया है। इन आलोचकों पर यह अद्भुत सामग्री यहां प्रस्तुत है। इस शृंखला को आप यहां पढ़ सकते हैं। … Continue readingडॉ. गोपाल राय : मूल्यवादी कथा समीक्षा के प्रतिमान – डॉ. अमरनाथ