Tag: शुद्ध साहित्य

साहित्य और विचारधारा -डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल

Post Views: 1,542 आलेख मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र का यह एक मुख्य कर्तव्य है कि प्रतिक्रियावादी बुर्जुआ चिन्तकों द्वारा साहित्य के बारे में जो अवैज्ञानिक और भ्रान्तिपूर्ण धारणाएं प्रचलित एवं प्रस्थापित की

Continue readingसाहित्य और विचारधारा -डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल