Tag: व्यंग्य

अपनी-अपनी हैसियत- हरिशंकर परसाई

फूहड़पन के लिए भी हैसियत चाहिए। मेरी हैसियत नहीं है तो लालाजी के बेटों पर हँस रहा हूँ। पैसा और फूहड़पन दोनों आ जाए तो मैं गहरा रंग खरीदकर चेहरे को रँगवा लूँ-एक गाल पीला, दूसरा लाल नाक हरी, कपाल नीला।।  (लेख से ) … Continue readingअपनी-अपनी हैसियत- हरिशंकर परसाई

आँगन में बैंगन – हरिशंकर परसाई

Post Views: 39 मेरे दोस्‍त के आँगन में इस साल बैंगन फल आए हैं। पिछले कई सालों से सपाट पड़े आँगन में जब बैंगन का फल उठा तो ऐसी खुशी

Continue readingआँगन में बैंगन – हरिशंकर परसाई

निंदा-रस – हरिशंकर परसाई

Post Views: 46 निंदा कुछ लोगों की पूंजी होती है। बड़ा लंबा-चौड़ा व्यापार फैलाते हैं वे इस पूंजी से। कई लोगों की ‘रिस्पेक्टेबिलिटी’ (प्रतिष्ठा) ही दूसरों की कलंक-कथाओं के पारायण

Continue readingनिंदा-रस – हरिशंकर परसाई

निंदा रस – हरिशंकर परसाई

Post Views: 479 व्यंग्य क’ कई महीने बाद आए थे। सुबह चाय पीकर अखबार देख रहा था कि वे तूफान की तरह कमरे में घुसे, साइक्लोन जैसा मुझे भुजाओं में

Continue readingनिंदा रस – हरिशंकर परसाई

हम तालिबान बनना चाहते हैं – सहीराम

Post Views: 187 सहीराम  खाप पंचायती वैसे तो तालिबान बन ही चुके थे, सब उन्हें मान भी चुके थे। लेकिन पक्के और पूरे तालिबान बनने की उनकी इच्छा ने इतना

Continue readingहम तालिबान बनना चाहते हैं – सहीराम