Tag: विक्रम राही

भीतरला हो साफ मणस का चाहे रंग बेशक तै काला हो – विक्रम राही

Post Views: 723 भीतरला हो साफ मणस का चाहे रंग बेशक तै काला हो हो रंग भी काला दिल भी काला उसका के उपराला हो भूरा हो जै देखण मैं

Continue readingभीतरला हो साफ मणस का चाहे रंग बेशक तै काला हो – विक्रम राही

बेटी गैल्यां धोखा होग्या इब के कह दयूं सरकार तनै- विक्रम राही

Post Views: 291 बेटी गैल्यां धोखा होग्या इब के कह दयूं सरकार तनै जै गर्भ बीच तै बचा लई तो आग्गे फेर दई मार तनै लिंगानुपात सुधर गया इसका कारण

Continue readingबेटी गैल्यां धोखा होग्या इब के कह दयूं सरकार तनै- विक्रम राही

साथ चांदडे माणस का दिया होया तंग करज्यागा- विक्रम राही

Post Views: 658 विक्रम राही साथ चांदडे माणस का दिया होया तंग करज्यागा जीण जोग भी खामैखा तो बिन आई मैं मरज्यागा चतुर चलाक बेशर्म आदमी सदा मीट्ठे चोपे लावैगा

Continue readingसाथ चांदडे माणस का दिया होया तंग करज्यागा- विक्रम राही

छब्बीस जनवरी आले पर ना बात होवै सविंधान की- विक्रम राही

Post Views: 217 विक्रम राही छब्बीस जनवरी आले पर ना बात होवै सविंधान की टैंक तोप झांकी भाषण तै खुश जनता हिन्दूस्तान की । सविंधान सभा नै लिखया म्हारा संविधान

Continue readingछब्बीस जनवरी आले पर ना बात होवै सविंधान की- विक्रम राही

कौण कड़ै ताहीं तरै आडै कौण कड़ै कद बहज्या- विक्रम राही

Post Views: 232 विक्रम राही कौण कड़ै ताहीं तरै आडै कौण कड़ै कद बहज्या बालू बरगी भीत समझले कौण जमै कौण ढहज्या समो समो का मोल बताया पर समो आवणी

Continue readingकौण कड़ै ताहीं तरै आडै कौण कड़ै कद बहज्या- विक्रम राही

रोज ताण ल्यो कट्टे पिस्टल जेली और तलवारां नै- विक्रम राही

Post Views: 465 विक्रम राही रोज ताण ल्यो कट्टे पिस्टल जेली और तलवारां नै हांगें आली जिद्द ले बैठी या बहोत घणे परिवारां नै छोट्टी मोट्टी कहया सुणी रुप दूसरा

Continue readingरोज ताण ल्यो कट्टे पिस्टल जेली और तलवारां नै- विक्रम राही

ठाड्डा रहया पाल बांदता पुश्त आगली की खातिर- विक्रम राही

Post Views: 505 विक्रम राही ठाड्डा रहया पाल बांदता पुश्त आगली की खातिर कमजोर कमी तेरी रहगी तनै समझे नहीं कदे चात्तर वेद शास्त्र छाण लिए वैं के कहरे सै

Continue readingठाड्डा रहया पाल बांदता पुश्त आगली की खातिर- विक्रम राही

झूठ फरेब छल बेगैरत का ना कती सहारा चाहिए- विक्रम राही

Post Views: 221 विक्रम राही झूठ फरेब छल बेगैरत का ना कती सहारा चाहिए मनै प्यार प्रेम और भाईचारे तै मेल गुजारा चाहिए ढोंग रचाकै यारी ला लें पाप भरया

Continue readingझूठ फरेब छल बेगैरत का ना कती सहारा चाहिए- विक्रम राही

कदे सोच्या के ?- विक्रम राही

Post Views: 134 विक्रम राही वाटस एप पै पोस्ट फारवर्ड एडवांस हो चाहे हो बैकवर्ड कदे सोच्या के ? फेसबुक पै रहै रोज हाजरी पड़ोस मैं चाहे आग लागरी कदे

Continue readingकदे सोच्या के ?- विक्रम राही

रंग तो सबके लहू का लाल है- विक्रम राही

Post Views: 310 विक्रम राही रंग तो सबके लहू का लाल है हड्डियां भी वही हैं वही खाल है। कौम मजहब पर लाता है कौन समझ लीजिए किसकी चाल है

Continue readingरंग तो सबके लहू का लाल है- विक्रम राही