Tag Archives: विक्रम राही

बेटी गैल्यां धोखा होग्या इब के कह दयूं सरकार तनै

विक्रम राही बेटी गैल्यां धोखा होग्या इब के कह दयूं सरकार तनै जै गर्भ बीच तै बचा लई तो आग्गे फेर दई मार तनै लिंगानुपात सुधर गया इसका कारण हम तम जाणै छोरियां नै वो कर दिखलाया ना मानणिया भी मानै हर तरफ सुण ली होगी इनकी जय जयकार तनै राजनीति का एकै फंडा भूना लियो सब क्याहें नै उस

Advertisements
Read more

साथ चांदडे माणस का दिया होया तंग करज्यागा

विक्रम राही साथ चांदडे माणस का दिया होया तंग करज्यागा जीण जोग भी खामैखा तो बिन आई मैं मरज्यागा चतुर चलाक बेशर्म आदमी सदा मीट्ठे चोपे लावैगा कई तरियां के बणा भेष वो रोज बीच मैं आवैगा मतलब काढ लिकड़ लेगा तनै डूबोकै तर ज्यागा चिकणी चुपड़ी करै बात शातिर सै वो बहोत घणा थारी खातिर अवतार धरया साच्ची देगा

Read more

छब्बीस जनवरी आले पर ना बात होवै सविंधान की

विक्रम राही छब्बीस जनवरी आले पर ना बात होवै सविंधान की टैंक तोप झांकी भाषण तै खुश जनता हिन्दूस्तान की । सविंधान सभा नै लिखया म्हारा संविधान तीन साल मैं बाबा साहब अम्बेडकर को तमनै ल्याणा चाहिए ख्याल मैं 111 सविंधान पढ़े उननै देश हालात और काल मै सबतै बड़ा सविंधान सौंप दिया देश हित की ताल मै गुलामी तै

Read more

कौण कड़ै ताहीं तरै आडै कौण कड़ै कद बहज्या

विक्रम राही कौण कड़ै ताहीं तरै आडै कौण कड़ै कद बहज्या बालू बरगी भीत समझले कौण जमै कौण ढहज्या समो समो का मोल बताया पर समो आवणी जाणी किसे समो रहया फैदे गिणता कदे अगतआली हाणी पणवासी का चाँद चढै पर ढलता ढलता वो भी गहज्या ठाढे माणस कई ढाल के कोए तन मैं कोए धन मैं हीणे का ले

Read more

रोज ताण ल्यो कट्टे पिस्टल जेली और तलवारां नै

विक्रम राही रोज ताण ल्यो कट्टे पिस्टल जेली और तलवारां नै हांगें आली जिद्द ले बैठी या बहोत घणे परिवारां नै छोट्टी मोट्टी कहया सुणी रुप दूसरा लेज्या सै नहीं तरारा डटै गात का माथे पै बल देज्या सै हीणे बणकै क्यूँ ना मेटो तम आपस की तकरारां नै भींत तै भींत लगै थारी डयोल तै डयोल खेत के माह

Read more

ठाड्डा रहया पाल बांदता पुश्त आगली की खातिर

विक्रम राही ठाड्डा रहया पाल बांदता पुश्त आगली की खातिर कमजोर कमी तेरी रहगी तनै समझे नहीं कदे चात्तर वेद शास्त्र छाण लिए वैं के कहरे सै पुराण बता रामायण महाभारत गीता मनुस्मृति जाण बता के वर्ण व्यवस्था सही रही इतिहास पहचाण बता के रामायण महाभारत कहरी फेर गीता का ज्ञान बता ठीक गलत इब तेरे ऊपर देख लिए अपणा

Read more

झूठ फरेब छल बेगैरत का ना कती सहारा चाहिए

विक्रम राही झूठ फरेब छल बेगैरत का ना कती सहारा चाहिए मनै प्यार प्रेम और भाईचारे तै मेल गुजारा चाहिए ढोंग रचाकै यारी ला लें पाप भरया हो नस नस मैं मीठा बणकै भीतर घुसज्या जीभ भीज री ज्यूं रस मैं टैम लागते छल करज्या वो ज्यान तै ना प्यारा चाहिए वै माणस रहे घाटे मैं जिनै पहलम बात बिचारी

Read more

कदे सोच्या के ?

विक्रम राही वाटस एप पै पोस्ट फारवर्ड एडवांस हो चाहे हो बैकवर्ड कदे सोच्या के ? फेसबुक पै रहै रोज हाजरी पड़ोस मैं चाहे आग लागरी कदे सोच्या के ? बेटी बचाण की क्यूँ आई नौबत माणस सां माणस की सोहबत कदे सोच्या के? रोज खुदकशी किसान करे जां मेहनत करैं आर दण्ड भरे जां कदे सोच्या के ? फुटपाथ

Read more

रंग तो सबके लहू का लाल है

विक्रम राही रंग तो सबके लहू का लाल है हड्डियां भी वही हैं वही खाल है। कौम मजहब पर लाता है कौन समझ लीजिए किसकी चाल है । कठपुतली बने हो सदियों से तुम किन हाथों में है डोर ये सवाल है। तु हिन्दू वो मुसलमां ये सिख इसाई आदमी है समझ ये क्या जंजाल है । ओ मजहब के

Read more

बाॅडी साॅडी बणा लई तनै यो किसा ढिठोरा सै

विक्रम राही बाॅडी साॅडी बणा लई तनै यो किसा ढिठोरा सै असल बात तै लाख दूर किस ढाल का छोरा सै जोंगा जीप ट्रैक्टर डीजे बणा लिया तमनै बेहुदा फनकार आईडिल गिणा लिया तमने ताऊ चाच्यां कै तेरी खातिर हाथ लठोरा सै कद्र बाप की ना समझी और माँ किस हाल सै बाहण कै ऊपर लाख नजर यो के जंजाल

Read more
« Older Entries