Tag: लघु कथा

कछुआ और खरगोश – इब्ने इंशा

Post Views: 433 लोक कथा एक था कछुआ, एक था खरगोश। दोनों ने आपस में दौड़ की शर्त लगाई। कोई कछुए से पूछे कि तूने शर्त क्यों लगाई? क्या सोचकर

Continue readingकछुआ और खरगोश – इब्ने इंशा

सज़ा- हरभगवान  चावला

Post Views: 488 हरभगवान चावला (हरभगवान चावला सिरसा में रहते हैं। हरियाणा सरकार के विभिन्न महाविद्यालयों में  कई दशकों तक हिंदी साहित्य का अध्यापन किया। प्राचार्य पद से सेवानिवृत हुए।

Continue readingसज़ा- हरभगवान  चावला

मोहल्ला द्रोह- हरभगवान  चावला

Post Views: 204 हरभगवान चावला (हरभगवान चावला सिरसा में रहते हैं। हरियाणा सरकार के विभिन्न महाविद्यालयों में  कई दशकों तक हिंदी साहित्य का अध्यापन किया। प्राचार्य पद से सेवानिवृत हुए।

Continue readingमोहल्ला द्रोह- हरभगवान  चावला

ख़ून- हरभगवान  चावला

Post Views: 143 हरभगवान चावला राजा को ख़ून देखने का जुनून था। ख़ून देखे बिना उसे नींद नहीं आती थी। राजा चूंकि राजा था, ख़ून बहाने के परंपरागत एकरस तरीक़े

Continue readingख़ून- हरभगवान  चावला

जूठ – कृष्ण चन्द्र महादेविया

Post Views: 327 लघु कथा     (ग्रामीण विभाग के अधीक्षक पद से सेवानिवृत कृष्णचंद महादेविया हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के सुंदर नगर में रहते हैं। मूलतः लघुकथा व एंकाकी

Continue readingजूठ – कृष्ण चन्द्र महादेविया

सरनेम – कृष्ण चन्द्र महादेविया

Post Views: 225  लघु कथा     (ग्रामीण विभाग के अधीक्षक पद से सेवानिवृत कृष्णचंद महादेविया हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के सुंदर नगर में रहते हैं। मूलतः लघुकथा व एंकाकी

Continue readingसरनेम – कृष्ण चन्द्र महादेविया

नरेश कुमार 'मीत’ – आजादी

Post Views: 259 लघु-कथा शुक्ला जी सुबह उठकर पौधों को निहार रहे थे कि उन्हें गमले के पीछे कुछ फडफ़ड़ाहट सी सुनाई दी। उन्होंने गौर से देखा तो एक तोता

Continue readingनरेश कुमार 'मीत’ – आजादी

मछली – कमलेश भारतीय

Post Views: 192 मछली लघु कथा                 एक सुबह आम दिनों की तरह बाजार के लिए निकला। मोड़ पार करते ही मूंगफली पटरी पर फैलाए दो लोग बैठे दिखे। मैंने

Continue readingमछली – कमलेश भारतीय