placeholder

हरियाणा का इतिहास-ब्रिटिश शासन की स्थापना -बुद्ध प्रकाश

Post Views: 294 30 दिसम्बर, 1803 को दौलत राव सिन्धिया ने सिरजी अंजनगांव की सन्धि द्वारा हरियाणा  प्रदेश ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कम्पनी को सौंप दिया। प्रशासन के लिए रेजिडेंट नियुक्त…

placeholder

वो रात को लाहौर चले गए – नरेश कुमार

Post Views: 374 भरतो इस साल चौरासी पार कर जाएगी। 15 वर्ष की उम्र में शादी हो गई थी। साढ़े  सोलह की उम्र में पहली बेटी को जन्म दिया। अपने…

placeholder

नूरू की थाली – रामकिशन राठी 

Post Views: 267 घोड़े दौड़ रहे थे…क्यड़पड़-क्यड़पड़, नगाड़े बज रहे थे…पडग़ड़ाम…पडग़ड़ाम-पडग़ड़ाम… लड़ाई के मैदान के नजारे को बयान करते हुए वह मुंह से ऐसी आवाजें निकालता था जो हूबहू घोड़े…

placeholder

ऐसे अपनी दुआ क़ुबूल हुई-बलबीर सिंह राठी

Post Views: 203  ग़ज़ल ऐसे अपनी दुआ क़ुबूल हुई, राह तक मिल सकी न मंजि़ल की, कारवाँ से बिछडऩे वालों को, उन की मंजि़ल कभी नहीं मिलती। खो गई नफ़रतों…

placeholder

ये अलग बात बच गई कश्ती -बलबीर सिंह राठी

Post Views: 222  ग़ज़ल   ये अलग बात बच गई कश्ती, वरना साजि़श भंवर ने ख़ूब रची। कह गई कुछ वो बोलती आँखें, चौंक उट्ठी किसी की ख़ामोशी। हम तो…

placeholder

पहले कोई ज़ुबाँ तलाश करूँ – बलबीर सिंह राठी

Post Views: 173  ग़ज़ल पहले कोई ज़ुबाँ तलाश करूँ, फिर नई शोखियाँ1 तलाश करूँ। अपने ख्वाबों की वुसअतों2 के लिए, मैं नये आसमां तलाश करूँ। मंजि़लों की तलाश में निकलूँ,…

placeholder

कौन बस्ती में मोजिज़ा गर है -बलबीर सिंह राठी

Post Views: 137  ग़ज़ल कौन बस्ती में मोजिज़ा गर है, हौंसला किस में मुझ से बढ़ कर है। चैन    से   बैठने   नहीं   देता, मुझ में बिफरा हुआ समन्दर है।…

placeholder

कौन कहता है कि तुझको हर खुशी मिल जाएगी- बलबीर सिंह राठी

Post Views: 163  ग़ज़ल कौन कहता है कि तुझको हर खुशी मिल जाएगी, हां मगर इस राह में मंजि़ल नई मिल जाएगी। अपनी राहों में अंधेरा तो यक़ीनन है मगर,…

placeholder

जिनकी नज़रों में थे रास्ते और भी- बलबीर सिंह राठी

Post Views: 181  ग़ज़ल जिनकी नज़रों में थे रास्ते और भी, जाने क्यों वो भटकते गये और भी। मैं ही वाक़िफ़ था राहों के हर मोड़ से, मैं जिधर भी…