Tag: रिसाल जंगाड़ा.

बाळक हो गए स्याणे घर मैं-रिसाल जांगड़ा

Post Views: 530 हरियाणवी ग़ज़ल बाळक हो गए स्याणे घर मैं। झगड़े नवे पुराणे घर मैं। आए नवे जमाने घर मैं। ख्याल लगे टकराणे घर मैं। मैं जिन तईं समझाया

Continue readingबाळक हो गए स्याणे घर मैं-रिसाल जांगड़ा