Tag: यूं तो हमारी राह में दरया कहीं न था

यूं तो हमारी राह में दरया कहीं न था – आबिद आलमी

Post Views: 127 ग़ज़ल यूं तो हमारी राह में दरया कहीं न था।इक इक क़दम पे हमको मगर डूबना पड़ा॥ पहले तो देर तक वो मुझे घूरता रहा,फिर जाने किस

Continue readingयूं तो हमारी राह में दरया कहीं न था – आबिद आलमी