Tag: मैं उनका ही होता

मैं उनका ही होता -मुक्तिबोध

Post Views: 257 कविता मैं उनका ही होतामैं उनका ही होता, जिनमेंमैंने रूप-भाव पाये हैं।वे मेरे ही हिये  बंधे हैंजो मर्यादाएं लाये हैं।मेरे शब्द, भाव उनके हैं,मेरे पैर और पथ

Continue readingमैं उनका ही होता -मुक्तिबोध