placeholder

मैं आदमी नहीं हूँ- मलखान सिंह

Post Views: 23 एक मैं आदमी नहीं हूँ स्साब जानवर हूँ दोपाया जानवर जिसे बात-बात पर मनुपुत्र—माँ चो—बहन चो— कमीन क़ौम कहता है। पूरा दिन— बैल की तरह जोतता है…