Tag: मेरे हालात नां पूच्छै

मेरे हालात नां पूच्छै – कर्मचंद केसर

Post Views: 889 हरियाणवी गजल मेरे हालात नां पूच्छै। इस दिल की बात नां पूच्छै। फुटपाथ पै बसर करूं सूं। मेरी औकात नां पूच्छैं। मैं सबका सब मेरे सैं, तौं

Continue readingमेरे हालात नां पूच्छै – कर्मचंद केसर