Tag Archives: फासला

फासला

ज्ञान प्रकाश विवेक वालैंट्री रिटायरमेंट स्कीम किसी उपकार की तरह पेश की गई थी, जिसमें लफाज्जियों का तिलिस्म था और कारपोरेट  जगत का मुग्धकारी छल! इस छल का मुझे बाद में पता चला। फिलहाल तो मैं इस बाईस लाख के चैक को देखकर अभिभूत था, जो मुझे कम्पनी ने थमाया था। बाईस लाख! मैं तो उछल पड़ा था। मैं खुद

Advertisements
Read more