Tag Archives: पूंजीवादी नारीवाद

छाती, तू और मैं – निकिता आजाद

निकिता आजाद (युनिवर्सिटी ऑफ आक्सफोर्ड) में पढ़ी हैं। उन्होंने  ‘हैपी टु ब्लीड’ लिखे सैनिटरी नैपकिन के साथ अपनी तसवीर पोस्ट करते हुए लोगों को पितृसत्तात्मक रवैए के खिलाफ खड़े होने की अपील की थी और सोशल मीडिया पर #happytobleed मुहिम चलाई थी। contact – nikarora0309@gmail.com तू हमेशा कहता रहा ये बहुत छोटी हैं बहुत ढीली हैं बहुत चपटी हैं और

Advertisements
Read more

एक विद्रोही स्त्री – आलोक श्रीवास्तव

इस समाज में शोषण की बुनियाद पर टिके संबंध भी प्रेम शब्द से अभिहित किये जाते हैं एक स्त्री तैयार है मन-प्राण से घर संभालने, खाना बनाने कपड़ा धोने और झाड़ू-बुहारी के लिये मुस्तैद है पुरुष उसके भरण-पोषण में हां, बिचौलियों के जरिये नहीं, एक-दूसरे को उन्होंने ख़ुद खोजा है और इसे वे प्यार कहते हैं और मुझे वेरा याद

Read more