Tag Archives: पानीपत

ज़िन्दा जला कर शहीद कर दिया था क्रांति कुमार को

क्रांति कुमार कौन? नौजवान भारत सभा का पहला महासचिव । शहीद भगत सिंह का चहेता प्यारा दोस्त । जेल में रहते ही तो भगत सिंह ने इसे क्रांति कुमार नाम दिया था । वास्तव में उनके हंस राज नाम का एक साथी पुलिस का मुखबिर बन गया तो भगत सिंह ने अपने इस दूसरे साथी जिसका भी नाम हंसराज था

Advertisements
Read more

तुर्कों की निरंकुशता के विरुद्ध-संघर्ष

बुद्ध प्रकाश 24 जून, 1206 को कुतबुद्दीन ऐबक दिल्ली के राजसिंहासन पर बैठा और उत्तरी भारत के तुर्क राज्य की प्रतिष्ठापना की। मध्यवर्ती एशिया के धर्मांध तथा लड़ाकू तुर्क देश के स्वामी बन गए। परन्तु उनका शासन इस्लाम-शासन तो नाममात्र का ही था, वास्तव में यह एक तुर्क अभिजातवर्गीय शासन था। उन्होंने अपने शोषण तथा निरंकुशता द्वारा लोगों का खूब

Read more

हरियाणा का इतिहास-अल्पतंत्रीय वर्ग का उत्थान

बुद्ध प्रकाश यौधेयों ने, जिनके विषय में पहले उल्लेख किया जा चुका है, ई, पू.  की प्रथम तथा द्वितीय शताब्दी के उत्तरार्ध में अपनी मुद्रा चला कर भारतीय इतिहास में ख्याति प्राप्त की। उन सिक्कों को उनके रूपांकनों के आधार पर अनेक वर्गों में बांटा जा सकता है। कुछ पर चक्र वृक्ष, कुछ पर ध्वज और सूर्य तथा कुछ पर

Read more

हरियाणा का इतिहास-मुगल साम्राज्य की स्थापना

बुद्ध प्रकाश पंजाब के दुर्गपाल, दौलत खां लोदी ने मुगल सरदार, ज़हीरुद्दीन बाबर को भारत पर आक्रमण करने के लिए उकसाया। परन्तु बाबर ने सर्वप्रथम 1525 में अपने आमंत्रक के प्रदेश पंजाब पर ही अपना आधिपत्य जमाया। अगले वर्ष वह दिल्ली की ओर बढ़ा तथा 12 अप्रैल 1526 को पानीपत के युद्धक्षेत्र में सुलतान शासक की सेना से उसका सामना

Read more

हरियाणा का इतिहास-ब्रिटिश शासन की स्थापना -बुद्ध प्रकाश

30 दिसम्बर, 1803 को दौलत राव सिन्धिया ने सिरजी अंजनगांव की सन्धि द्वारा हरियाणा  प्रदेश ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कम्पनी को सौंप दिया। प्रशासन के लिए रेजिडेंट नियुक्त करके इसे बंगाल प्रेसीडेंसी में सम्मिलित कर दिया गया। यमुना के दायें तटीय प्रदेश का उपखण्ड, जिसमें उत्तर की ओर पानीपत, सोनीपत, समालखा, गन्नौर तथा हवेली पालम तथा दक्षिण में नूह, हथीन, तिजारा,

Read more

चुप की दाद

अल्ताफ़ हुसैन हाली पानीपती ऐ मांओं बहनों, बेटियों, दुनियां की ज़ीनत1 तुमसे है मुल्कों की बस्ती हो तुम्ही, क़ौमों की इज़्ज़त तुमसे है तुम घर की हो शहज़ादियाँ, शहरों की हो आबादियाँ ग़म गीं दिलों की शादियाँ, दुख-सुख में राहत तुम से है   हरियाणा सृजन उत्सव के दौरान 25 फरवरी 2017 की सांस्कृतिक संध्या में विनोद सहगल द्वारा गाई

Read more

संजय कुमार – अभिव्यक्ति की आजादी और असहमति का अधिकार लोकतंत्र की मूल भावना

गतिविधि आज किसान भवन सभागार, असन्ध रोड़ में ” स्वतन्त्रता, समानता, न्याय, अभिव्यक्ति की आज़ादी और असहमति की कद्र ” विषय पर सिविल सोसाइटी, पानीपत द्वारा एक सेमिनार का आयोजन किया गया जिसमें उपरोक्त जन मुद्दों व मानवीय, सामाजिक सरोकारों से जुड़े हुए अनेक सामाजिक संस्थायें, संगठन, व जागरूक बुद्धिजीवियों ने भाग लिया। कार्यक्रम की शुरुआत मशहूर पत्रकार, मानवाधिकार कार्यकर्ता

Read more