placeholder

जॉर्ज लूकाच -डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल

Post Views: 328           आलेख साहित्यिक मसलों की मार्क्सवादी दृष्किोण से व्याख्या करने वाले समर्थ आलोचकों में लूकाच का नाम आता है। किन्तु उनकी कुछ मुख्य…

placeholder

जनवादी कविता की विरासत-डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल

Post Views: 1,031 आलेख हिन्दी में आठवें दशक के दौरान जनवादी कविता का स्वर ही प्रमुख रहा है, कई नए हस्ताक्षर इधर जनवादी कविता के क्षेत्र में उभर कर आए…