Tag: नज़र में हवा भी है

सीने में आग भी है, नज़र में हवा भी है- आबिद आलमी

Post Views: 153 ग़ज़ल सीने में आग भी है, नज़र में हवा भी हैफिर रेज़ा-रेज़ा मरने से कुछ फ़ायदा भी है दरिया की बात करता है लेकिन य’ पूछ लोलहरों

Continue readingसीने में आग भी है, नज़र में हवा भी है- आबिद आलमी