Tag: दलित विमर्श

आमूल-चूल परिवर्तन की खातिर – नुसरत

Post Views: 538 सांस्कृतिक हलचल 29 मई को यमुनानगर जिले का गांव टोपरा कलां गांव क्रांतिकारी जय भीम के नारों से गूंज उठा। जिधर देखिये उधर से जय भीम के

Continue readingआमूल-चूल परिवर्तन की खातिर – नुसरत

ब्राह्मणवाद के खिलाफ हुई भीम गर्जना – धर्मवीर

Post Views: 919 सांस्कृतिक हलचल 29 मई को यमुनानगर जिले का गांव टोपरा कलां गांव क्रांतिकारी जय भीम के नारों से गूंज उठा। जिधर देखिये उधर से जय भीम के

Continue readingब्राह्मणवाद के खिलाफ हुई भीम गर्जना – धर्मवीर

तीन मंत्र – भूप सिंह ‘भारती’

Post Views: 559 कविता एक रात सपने में मेरे, ‘बाबा साहेब’ आये। दासता से मुक्ति के, मंत्र तीन बताये। पहला मंत्र बड़ा सरल, शिक्षा की तुम करो पहल, शिक्षित बन

Continue readingतीन मंत्र – भूप सिंह ‘भारती’

दलित साहित्य: एक अन्तर्यात्रा – कमलानंद झा

Post Views: 404 पठनीय पुस्तक दलित साहित्य के लिए यह शुभ संकेत है कि अब हिंदी में भी लगातार आलोचनात्मक पुस्तकें प्रकाशित हो रहीं हैं। रचना के साथ-साथ आलोचना का

Continue readingदलित साहित्य: एक अन्तर्यात्रा – कमलानंद झा

समतामूलक समाज था आम्बेडकर का सपना – डा. सुभाष चंद्र

Post Views: 480 प्रस्तुति-  गुंजन कैहरबा इन्द्री (करनाल) स्थित रविदास मंदिर के सभागार में 10 अप्रैल, 2016 को बाबा साहेब भीम राव आंबेडकर की 125वीं जयंती और महात्मा ज्योतिबा फुले

Continue readingसमतामूलक समाज था आम्बेडकर का सपना – डा. सुभाष चंद्र

आरक्षण:  पृष्ठभूमि और विवाद

बहुत से लोग इन आंदोलनों से हुए नुक्सान को देखकर यह भी कहने लगे हैं कि आरक्षण ही समस्या की जड़ है इसे समाप्त कर देना चाहिए। लेकिन यह विचार सामाजिक न्याय के बिल्कुल खिलाफ है। आरक्षण को तब तक समाप्त न किया जाए जब तक कि जब तक ये वर्ग खुली प्रतिस्पर्धा करने के लिए सक्षम न हो जाएं और अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और पिछड़े वर्गों का केंद्रीय और राज्य सरकार की सेवाओं के सभी कैडर में उनका प्रतिनिधित्व उनकी जनसंख्या के अनुपात के बराबर न पहुंच जाए। … Continue readingआरक्षण:  पृष्ठभूमि और विवाद

दलित जब लिखता है

सुनो ब्राह्मण – और सफेद हाथी
मलखान सिंह की कविताएं
हरियाणा सृजन उत्सव में 24 फरवरी 2018 को ‘दलित जब लिखता है’ विषय पर परिचर्चा हुई। प्रख्यात दलित कवि मलखान सिंह ने अपने अनुभवों के माध्यम से भारतीय समाज व दलित साहित्य से जुड़े ज्वलंत और विवादस्पद सवालों पर अपने विचार प्रस्तुत किए और दो कविताएं सुनाई … Continue readingदलित जब लिखता है

दलित जब लिखता है!

Post Views: 1,146 प्रस्तुति – डॉ. विजय विद्यार्थी हरियाणा सृजन उत्सव में  24 फरवरी 2018 को ‘दलित जब लिखता है’ विषय पर परिचर्चा हुई जिसमें प्रख्यात दलित कवि मलखान सिंह

Continue readingदलित जब लिखता है!

कल्पित तुझे सलाम -गुरबख्श मोंगा

Post Views: 522 कल्पित तुझे सलाम गुरबख्श  सिंह मोंगा अनुसूचित जाति के कल्पित वीरवाल द्वारा आई.आई.टी. की प्रवेश परीक्षा में सौ फीसदी अंक लाना बताता है कि प्रतिभा किसी जाति

Continue readingकल्पित तुझे सलाम -गुरबख्श मोंगा