placeholder

सावित्रीबाई फुले: आधुनिक भारत की प्रथम शिक्षिका

Post Views: 647 प्रमोद दीक्षित ‘मलय‘ .भारतवर्ष में 19वीं शताब्दी का उत्तरार्ध शैक्षिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक आंदोलनों एवं समाज में व्याप्त अस्पृश्यता, बाल विवाह, सती प्रथा, कन्या भ्रूण हत्या एवं…

placeholder

वैचारिक एवं वैज्ञानिक संघर्ष के पुरोधा क्रांति पुरुष महामना रामस्वरूप वर्मा

Post Views: 429 एडवोकेट रवीन्द्र कुमार कटियार निष्कलंक, निष्पक्ष, स्वयं चेता मानवतावादी! लोभ नहीं धन, पद का चिंतक, त्यागी, समतावादी! जिसके तर्क अकाट्य विरोधी भी सुनते हों आतुर! किया असंभव…

placeholder

हरियाणा में अनुसूचित जाति आयोग – सुरेंद्र पाल सिंह

Post Views: 531 सुरेंद्र पाल सिंह  हरियाणा में जाति आधारित शोषण-उत्पीड़न अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा का विषय रहा। सामाजिक स्तर पर बहुत जघन्य कांड  हरियाणा के समाज ने देखे। शासकीय…

हिंदी दलित साहित्य – 2018

Post Views: 793 बजरंग बिहारी तिवारी हिंदी दलित साहित्य : 2018      अन्य भारतीय भाषाओँ की तुलना में हिंदी दलित साहित्य इस मायने में भिन्न है कि यहाँ रचनाकारों की…

placeholder

ओम प्रकाश वाल्मीकि की आत्मकथा पढ़ते हुए मैं बेहद पिघल गया था – ओमसिंह अशफाक

Post Views: 602 ओमसिंह अशफाक ओम प्रकाश वाल्मीकि (30-6-1950—18-11-2013) जी से मेरी मुलाकात सिर्फ तीन बार हुई, लेकिन फोन पर चार-पांच बार की बातचीत ने हमारे बीच काफी आत्मीयता पैदा…

placeholder

मध्यवर्ग के आदर्शवादी तत्व और आरक्षण का सवाल -डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल

Post Views: 363 पिछले साल मंडल आयोग की सिफारिशों के आधार पर सरकारी नौकरियों में से सत्ताईस प्रतिशत को सामाजिक दृष्टि से पिछड़े वर्गों के लिए आरक्षित करने के राष्ट्रीय…

placeholder

जातिवाद जनविरोधी राजनीति का एक औजार – डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल

Post Views: 128             एक सामाजिक ढांचे के तौर पर ग्राम-समाज या विलेज कम्युनिटी ऐतिहासिक विकास का प्रतिफलन है। इसके उभरकर आने के बाद इतिहास में इसको बनाए रखने की…

placeholder

धर्मवीर सिंह – गरीबी उन्मूलन कार्यक्रम नहीं आरक्षण

Post Views: 312 बीच बहस में डीएसपी ऑफिस से निकलते ही उस सिपाही के चेहरे पर गुस्से और हिकारत का भाव था। गेट पर खड़े उसके साथी संतरी ने पूछा…

placeholder

हरियाणा में  दलित दशा, उत्पीड़न व प्रतिरोध – डा. सुभाष चंद्र

Post Views: 1,532 सामाजिक न्याय पिछले कुछ वर्षों में हरियाणा में दलित उत्पीड़न के जघन्य कांड हुए हैं जिस कारण हरियाणा का समाज राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा का…

placeholder

डॉ. आम्बेडकर किसान नेता के रूप में-विनोद कुमार

Post Views: 661 आलेख अर्थशास्त्री, राजनेता, मंत्री लेखक, संविधान निर्माता  आदि सभी रूपों और परिस्थितियों में डा.आम्बेडकर ने किसान हित की अनदेखी नहीं की। वे समय-समय पर सभी रूपों में…