placeholder

दरअसल- तारा पांचाल

Post Views: 464 कहानी (तारा पांचाल 28 मई,1950 – 20 जून, 2009।  ‘सारिका’, ‘हंस’, ‘कथन’, ‘वर्तमान साहित्य’, ‘पल-प्रतिपल’, ‘बया’, ‘गंगा’, ‘अथ’, ‘सशर्त’, ‘जतन’, ‘अध्यापक समाज’, ‘हरकारा’ जैसी प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में…

placeholder

जनपक्षीय राजनीति का मार्ग प्रशस्त करें

Post Views: 383 सेवा देश दी जिंदड़िए बड़ी ओखी,गल्लां करणियां ढेर सुखल्लियां ने।जिन्नां देश सेवा विच पैर पाइयाउन्नां लख मुसीबतां झल्लियां ने।        – करतार सिंह सराभा यह साल…

placeholder

सरबजीत, तारा पांचाल और पिलखन का पेड़ -ओमसिंह अशफाक

Post Views: 457 ओमसिंह अशफाक सरबजीत (30-12-1961—13-12-1998) दोस्तों का बिछडऩा बड़ा कष्टदायक होता है। ज्यों-ज्यों हमारी उम्र बढ़ती जाती है पीड़ा सहने की शक्ति भी क्षीण होती रहती है। जवानी…

placeholder

मां की ना कहिए, न्या की कहिए – तारा पांचाल

Post Views: 191                                 समाज अपने समय की सच्चाई को अपने रचनाकारों की आंख से देखता है। यह जानना हमेशा ही रोचक होता है कि रचनाकार अपने समय को कैसे…

placeholder

कहानियों के बीच बोलता : तारा पांचाल

Post Views: 356 डा. सुभाष चंद्र हरियाणा के छोटे से पिछड़े कस्बे नरवाना (बकौल तारा पांचाल नरवाना कंट्री)में जन्मे तारा पांचाल एक कहानीकार के तौर पर पूरे देश में प्रतिष्ठित…

placeholder

सरबजीत की याद में -तारा पांचाल

Post Views: 153 कविता बहुत उजालों में लिए तुम अपने आसपास नन्हें-नन्हें जुगनुओं जैसे सूरजों के बीच इसलिए दूरी बनी रही तुम्हारे, और तुम्हारी कविताओं के अंधेरे के बीच। पर…

placeholder

हरियाणा में हिन्दी कहानी का परिदृश्य

Post Views: 638 ज्ञान प्रकाश विवेक ज्ञान प्रकाश विवेक हरियाणा के प्रख्यात कथाकार हैं। उन्होंने नई कथा-भाषा का सृजन करते हुए कहानी को कलात्मक उच्चता प्रदान की है। अपने समय…