Tag: डा. सुभाष चंद्र

पंजाब का सांस्कृतिक त्यौहार लोहड़ी – डा. कर्मजीत सिंह अनुवाद – डा. सुभाष चंद्र

लोहड़ी पंजाब के मौसम से जुड़ा ऐसा त्यौहार है, जिसकी अपनी अनुपम विशेषताएं हैं। जैसे यह त्यौहार पौष की अंतिम रात को मनाया जाता है, जबकि भारत के दूसरे भागों में अगले दिन ‘संक्रांति’ मनाई जाती है। इस त्यौहार पर पंजाब के लोग आग जलाते हैं। संक्रांति पर ऐसा नहीं होता, केवल नदियों-सरोवरों में स्नान किया जाता है। लोहड़ी में तिलों और तिलों की रेवड़ियों की आहूति दी जाती है। … Continue readingपंजाब का सांस्कृतिक त्यौहार लोहड़ी – डा. कर्मजीत सिंह अनुवाद – डा. सुभाष चंद्र

लिंग-संवेदी भाषा की ओर एक कदम – डा. सुभाष चंद्र

Post Views: 311 अपने अल्फ़ाज पर नज़र रक्खो,इतनी बेबाक ग़ुफ्तगू न करो,जिनकी क़ायम है झूठ पर अज़मत,सच कभी उनके रूबरू न करो। – बलबीर सिंह राठी आजकल संवेदनशील स्वतंत्रचेता नागरिक ये महसूस

Continue readingलिंग-संवेदी भाषा की ओर एक कदम – डा. सुभाष चंद्र

भारत  विभाजन  के उत्तरदायी – असगर अली इंजीनियर, अनु. डा. सुभाष चंद्र

Post Views: 333 साम्प्रदायिक सवाल मुख्यत: सत्ता में हिस्सेदारी से जुड़ा था, चूंकि सत्ता में हिस्सेदारी के सवाल का आखिर तक कोई संतोषजनक हल नहीं निकला और अंतत: देश का

Continue readingभारत  विभाजन  के उत्तरदायी – असगर अली इंजीनियर, अनु. डा. सुभाष चंद्र

 छवि का कुहासा और केंचुली उतारता हरियाणा- डा. सुभाष चंद्र

Post Views: 209 हरियाणा की छवि और वास्तविकता में दूरी बढ़ते बढ़ते इतनी हो गई है कि अब वास्तविकता और उसकी छवि का संबंध टूट गया है। वास्तविकता अपनी जगह

Continue reading छवि का कुहासा और केंचुली उतारता हरियाणा- डा. सुभाष चंद्र

विश्व की समस्त भाषाओं के बारे में सार्वभौमिक सत्य – डा. सुभाष चंद्र

Post Views: 248 प्रोफेसर सुभाष चंद्र, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र जब लोग इकट्ठे होते हैं तो बात ही करते हैं। जब वे खेलते हैं, प्यार करते हैं। हम भाषा की दुनिया

Continue readingविश्व की समस्त भाषाओं के बारे में सार्वभौमिक सत्य – डा. सुभाष चंद्र

समतामूलक समाज था आम्बेडकर का सपना – डा. सुभाष चंद्र

Post Views: 480 प्रस्तुति-  गुंजन कैहरबा इन्द्री (करनाल) स्थित रविदास मंदिर के सभागार में 10 अप्रैल, 2016 को बाबा साहेब भीम राव आंबेडकर की 125वीं जयंती और महात्मा ज्योतिबा फुले

Continue readingसमतामूलक समाज था आम्बेडकर का सपना – डा. सुभाष चंद्र

उच्च शिक्षा : अपेक्षाएं और चुनौतियां – डा. सुभाष चंद्र

शिक्षा सांस्कृतिक प्रक्रिया है, समाजीकरण का माध्यम, शक्ति का स्रोत और शोषण से मुक्ति का मार्ग है। शिक्षा का व्यक्ति और समाज के विकास से गहरा रिश्ता है, विशेषकर आज की ज्ञान केन्द्रित व नियन्त्रित दौर में। समाज के विकास और बदलाव के साथ साथ शिक्षा व ज्ञान का चरित्र भी बदला है। शिक्षा-विमर्श के मुद्दे भी बदले हैं। … Continue readingउच्च शिक्षा : अपेक्षाएं और चुनौतियां – डा. सुभाष चंद्र