Tag: जो भी लड़ता रहा हर किसी के लिये

जो भी लड़ता रहा हर किसी के लिये – बलबीर सिंह राठी

Post Views: 203  ग़ज़ल जो भी लड़ता रहा हर किसी के लिये, कुछ न कुछ कर गया आदमी के लिये। जो अंधेरे मिटाने को बेताब था, ख़ुद फ़रोज़ां1 हुआ रोशनी

Continue readingजो भी लड़ता रहा हर किसी के लिये – बलबीर सिंह राठी