placeholder

अपना अपना भाग्य- जैनेन्द्र

अपना-अपना भाग्य कहानी 1931 ई० लिखी गई थी, जो ‘वातायन’ कहानी संग्रह में संकलित है। यह कहानी संवाद शैली में लिखी गई है। इस कहानी में जैनेन्द्र ने मध्यवर्गीय समाज में व्याप्त स्वार्थपरकता को उजागर किया है. इस कहानी में गुलाम भारत के शहर नैनीताल के परिवेश का चित्रण मिलता है.