Tag: जिनके दिल मैं भरग्ये खटके

जिनके दिल मैं भरग्ये खटके-रिसाल जांगड़ा

Post Views: 217 हरियाणवी ग़ज़ल जिनके दिल मैं भरग्ये खटके, अपणी मंजिल तै वैं भटके। देख बुढापा रोण पड़ग्या, याद आवैं जोबन के लटके। जिनके ऊंचे कर्म नहीं थे, वैं

Continue readingजिनके दिल मैं भरग्ये खटके-रिसाल जांगड़ा