Tag: जाट कहवै

जाट कहवै, सुण जाटणी – प्रदीप नील वशिष्ठ

Post Views: 901 एक बात ने कई सालों से मुझे परेशान कर रखा था। और वह शर्म की बात यह कि अपने  हरियाणा में हरियाणवी बोलने वाले को नाक-भौं चढ़ा

Continue readingजाट कहवै, सुण जाटणी – प्रदीप नील वशिष्ठ