placeholder

जहां में खौफ़ का व्यापार क्यूं है सोचना होगा – महावीर ‘दुखी’

Post Views: 158 महावीर ‘दुखी’  जहां में खौफ़ का व्यापार क्यूं है सोचना होगा, तशद्दुद की यहां भरमार क्यूं है सोचना होगा। सुना था आदमी ने बेबसी पर पा लिया…