Tag: जनवादी लेखक संघ हरियाणा

हुआ जब आदमी ख़ुद इतना वहशी – बलबीर सिंह राठी

Post Views: 138 ग़ज़ल हुआ जब आदमी ख़ुद इतना वहशी, तो क्या बिगड़ी हुई दुनिया संवरती। तबाही हर कदम पर घात में है, कहाँ महफ़ूज1 है अब आदमी भी। फ़ज़ा2

Continue readingहुआ जब आदमी ख़ुद इतना वहशी – बलबीर सिंह राठी

अभी तक साथ मायूसी हो जैसे – बलबीर सिंह राठी

Post Views: 133 अभी तक साथ मायूसी1 हो जैसे, कोई बाज़ी अभी हारी हो जैसे। ख़रीदारी को आए ग़म के मारे, ख़ुशी बाज़ार में बिकती हो जैसे। हुआ मुश्किल क़दम

Continue readingअभी तक साथ मायूसी हो जैसे – बलबीर सिंह राठी

रूठने वाले तो हम से फिर गले मिलने लगे हैं – बलबीर सिंह राठी

Post Views: 148 ग़ज़ल रूठने वाले तो हम से फिर गले मिलने लगे हैं, फिर भी अपने दरमियाँ1 रिश्ते नहीं है-फ़ासिले हैं। कैसे मानूं इन सभी को गुमरही का शौक़

Continue readingरूठने वाले तो हम से फिर गले मिलने लगे हैं – बलबीर सिंह राठी

तुम्हें ग़र अपनी मंजि़ल का पता है फिर खड़े क्यों हो – बलबीर सिंह राठी

Post Views: 581 ग़ज़ल तुम्हें ग़र अपनी मंजि़ल का पता है फिर खड़े क्यों हो, तुम्हारा कारवां1 तो जा चुका है फिर खड़े क्यों हो। उजाला तुम तो ला सकते

Continue readingतुम्हें ग़र अपनी मंजि़ल का पता है फिर खड़े क्यों हो – बलबीर सिंह राठी