Tag: गलती इतनी भारी नां कर

गलती इतनी भारी नां कर – कर्मचंद केसर

Post Views: 198  हरियाणवी ग़ज़ल   गलती इतनी भारी नां कर। रुक्खां कान्नी आरी नां कर। मीठी यारी खारी नां कर, दोस्त गैल गद्दारी नां कर। नुमाइस की चीज नहीं

Continue readingगलती इतनी भारी नां कर – कर्मचंद केसर