Tag: कोई सफा न देखा दिल का

कोई सफा न देखा दिल का – कबीर

Post Views: 752 संगत  साधु की, नित2 प्रीत कजे जाय। दुर्मति दूर बहावसि3, देखी सूरत जगाय।।टेक – कोई सफा न देखा दिल काचरण – बिल्ली देखी बगला देखा, सर्प जो

Continue readingकोई सफा न देखा दिल का – कबीर