Tag Archives: कुरुक्षेत्र

हरियाणा का इतिहास-कुरुक्षेत्र तथा कम्बोडिया

बुद्ध प्रकाश                प्रगति तथा समृद्धि के इस काल में हरियाणा के लोग विदेशों में जाकर बस गए और वहां बस्तियां बना लीं। सौभाग्यवश कम्बोडिया के एक उपनिवेश के संबंध में कुछ रोचक सूचना उपलब्ध है। वतफू के एक शिलालेख से यह स्पष्ट होता है कि मेकांग नदी के साथ का पूर्वी प्रदेश कुरुक्षेत्र

Advertisements
Read more

हरियाणा का इतिहास-अफगानों तथा मराठों का संघर्ष

बुद्ध प्रकाश नादिरशाह ने दिल्ली में निष्क्रय तथा लूट-खसोट का वातावरण बना दिया था। 1739 से 1761 तक पांच बार अहमदशाह दुर्रानी द्वारा, एक बार सूरजमल जाट द्वारा, एक बार जीत सिंह गूजर द्वारा, एक बार रोहतक जिले के बलोचियों द्वारा, आठ बार रुहेलों द्वारा, आठ बार मराठों तथा एक वर्ष के अंदर 11 बार साम्राज्य के मुगल अधिकारियों तथा

Read more

दास्तान एक शहर की

ओमसिंह अशफाक  दास्तान- ए -शहर कैसे बयां करूं जीऊँ तो कैसे जीऊँ, मरूँ तो कैसे मरूँ मैं सन् 1984 में इस शहर में आया तो इसे आदतन शहर कहकर अपने कहे पर पुनर्विचार करना पड़ता था। बेशक जिला मुख्यालय तो यह 1973 में ही बन गया था, पर किसी भी कोण से शहर की शक्ल तब तक नहीं बन सकी

Read more

हिंदी साहित्य अध्ययन-अध्यापनः चुनौतियां और सरोकार

प्रोफेसर सुभाष चंद्र, हिंदी विभाग, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय,कुरुक्षेत्र  1922-25 के आस-पास बी.एच.यू. और इलाहाबाद में हिन्दी विभाग खुलने शुरू हुए थे। अभी  उच्च शिक्षा में एक विषय के तौर पर हिंदी साहित्य-अध्ययन के सौ साल भी नहीं हुए हैं, लेकिन हिंदी साहित्य के अध्ययन अध्यापन के भविष्य को लेकर चिंताएं प्रकट होने लगी हैं। आचार्य रामचंद्र शुक्ल ,बाबू श्याम सुंदर दास

Read more

एस.के.कालरा – प्रो. ओम प्रकाश ग्रेवाल और हरियाणा में सामाजिक-सांस्कृतिक संगठनों का सफर

संस्मरण प्रो. ओम प्रकाश ग्रेवाल हरियाणा के सामाजिक-सांस्कृतिक परिदृश्य को जानने-समझने में लगातार प्रयासरत तो रहे ही, वे ऐसे रास्ते भी तलाशते रहे जिन के माध्यम से एक स्वस्थ, प्रगतिशील समाज की संरचना सम्भव हो पाए। इसी के चलते सामाजिक-सांस्कृतिक संस्थाओं की स्थापना का बड़ा कार्य हुआ जिसमें वे प्रेरक तथा पथ प्रदर्शक के तौर पर सक्रिय रहे। ऐसी कई

Read more