placeholder

अकाल और उसके बाद – नागार्जुन

Post Views: 8 कविता कई दिनों तक चूल्हा रोया, चक्की रही उदासकई दिनों तक कानी कुतिया सोई उनके पासकई दिनों तक लगी भीत पर छिपकलियों की गश्तकई दिनों तक चूहों…

placeholder

जागो फिर एक बार – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

Post Views: 13 कविता जागो फिर एक बार!प्यार जगाते हुए हारे सब तारे तुम्हेंअरुण-पंख तरुण-किरणखड़ी खोलती है द्वार-जागो फिर एक बार! आँखे अलियों-सीकिस मधु की गलियों में फँसी,बन्द कर पाँखेंपी…

placeholder

राम की शक्ति पूजा – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

Post Views: 21 कविता रवि हुआ अस्त; ज्योति के पत्र पर लिखा अमररह गया राम-रावण का अपराजेय समरआज का तीक्ष्ण शर-विधृत-क्षिप्रकर, वेग-प्रखर,शतशेलसम्वरणशील, नील नभगर्ज्जित-स्वर,प्रतिपल – परिवर्तित – व्यूह – भेद…

placeholder

बादल राग – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

Post Views: 36 कविता झूम-झूम मृदु गरज-गरज घन घोर।राग अमर! अम्बर में भर निज रोर! झर झर झर निर्झर-गिरि-सर में,घर, मरु, तरु-मर्मर, सागर में,सरित-तड़ित-गति-चकित पवन में,मन में, विजन-गहन-कानन में,आनन-आनन में,…

placeholder

सरोज स्मृति – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

Post Views: 17 कविता सरोज स्मृति ऊनविंश पर जो प्रथम चरणतेरा वह जीवन-सिन्धु-तरण;तनये, ली कर दृक्पात तरुणजनक से जन्म की विदा अरुण!गीते मेरी, तज रूप-नामवर लिया अमर शाश्वत विरामपूरे कर…

placeholder

भिक्षुक – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

Post Views: 6 कविता भिक्षुक वह आता–दो टूक कलेजे को करता, पछतातापथ पर आता। पेट पीठ दोनों मिलकर हैं एक,चल रहा लकुटिया टेक,मुट्ठी भर दाने को — भूख मिटाने कोमुँह…

placeholder

बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु! – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

Post Views: 6 कविता बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु!पूछेगा सारा गाँव, बंधु! यह घाट वही जिस पर हँसकर,वह कभी नहाती थी धँसकर,आँखें रह जाती थीं फँसकर,कँपते थे दोनों पाँव…

placeholder

कुकुरमुत्ता – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

Post Views: 4 कविता एक थे नव्वाब,फ़ारस से मंगाए थे गुलाब।बड़ी बाड़ी में लगाएदेशी पौधे भी उगाएरखे माली, कई नौकरगजनवी का बाग मनहरलग रहा था।एक सपना जग रहा थासांस पर…

placeholder

तोड़ती पत्थर – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

Post Views: 4 वह तोड़ती पत्थर;देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर-वह तोड़ती पत्थर। कोई न छायादारपेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार;श्याम तन, भर बंधा यौवन,नत नयन, प्रिय-कर्म-रत मन,गुरु…

placeholder

राजे ने अपनी रखवाली की – सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

Post Views: 8 कविता राजे ने अपनी रखवाली की;किला बनाकर रहा;बड़ी-बड़ी फ़ौजें रखीं ।चापलूस कितने सामन्त आए ।मतलब की लकड़ी पकड़े हुए ।कितने ब्राह्मण आएपोथियों में जनता को बाँधे हुए…