placeholder

दो हरियाणवी ग़ज़लें- कर्मचंद केसर

कर्मचंद केसर हरियाणा राज्य के कैथल जिले में रहते हैं। केसर की गज़लें पाठक का हरियाणवी समाज से सीधा संबंध स्थापित कराती हैं। प्रस्तुत है उनकी दो गज़लें:

placeholder

सृजन उत्सव में गूंजी सवाल उठाती कविताएँ

देस हरियाणा और सत्यशोधक फाउंडेशन द्वारा 14-15 मार्च को कुरुक्षेत्र स्थित सैनी धर्मशाला में आयोजित हरियाणा सृजन उत्सव में दोनों दिन सवाल उठाने और चेतना पैदा करने वाली कविताएं गूंजती रही। देश के जाने-माने वैज्ञानिक एवं शायर गौहर रज़ा के कविता पाठ के लिए विशेष सत्र आयोजित किया गया। सत्र का संचालन रेतपथ के संपादक डॉ. अमित मनोज ने किया।

placeholder

सीली बाळ रात चान्दनी आए याद पिया -कर्मचंद केसर

Post Views: 179   कर्मचन्द ‘केसर’  ग़ज़ल सीळी बाळ रात चान्दनी आए याद पिया। चन्दा बिना चकौरी ज्यूँ मैं तड़फू सूँ पिया। तेरी याद की सूल चुभी नींद नहीं आई,…

placeholder

जीन्दे जी का मेल जिन्दगी – कर्मचंद केसर

Post Views: 199 हरियाणवी ग़ज़ल जीन्दे जी का मेल जिन्दगी। च्यार दिनां का खेल जिन्दगी। फल लाग्गैं सैं खट्टे-मीठे, बिन पात्यां की बेल जिन्दगी। किसा अनूठा बल्या दीवा, बिन बात्ती…

placeholder

हेल्ली-महल चबारे  देक्खे – कर्मचंद केसर

Post Views: 138 हरियाणवी गजल हेल्ली-महल चबारे  देक्खे। छान-झोंपड़ी ढारे देक्खे। तरसें सैं किते बूंद-बूंद नैं, चलते किते फुहारे देक्खे। गरमी-सरदी कदे मींह् बरसै, कुदरत तिरे नजारे देक्खे। होणी सै…

placeholder

मेरे हालात नां पूच्छै – कर्मचंद केसर

Post Views: 881 हरियाणवी गजल मेरे हालात नां पूच्छै। इस दिल की बात नां पूच्छै। फुटपाथ पै बसर करूं सूं। मेरी औकात नां पूच्छैं। मैं सबका सब मेरे सैं, तौं…

placeholder

यार छोड़ तकरार की बातां – कर्मचंद केसर

Post Views: 543  हरियाणवी गजल यार छोड़ तकरार की बातां। आजा कर ले प्यार की बातां। एक सुपना-सा बणकै रह्गी, आपस के इतबार की बातां। आजादी म्हं भी जस की…