Tag: कमलानंद झा

लोकगाथा का सामाजिक-सांस्कृतिक सन्दर्भ – कमलानंद झा

रचनाकारों को काव्य रचना के नए-नए विषय ढूंढें नहीं मिलते, वहीं इन लोकगाथाओं में विषय-विविधता और उसकी नवीनता चमत्कृत करती है। … Continue readingलोकगाथा का सामाजिक-सांस्कृतिक सन्दर्भ – कमलानंद झा

परीक्षा से अधिक कठिन है मूल्यांकन – कमलानंद झा

Post Views: 1,379 मेरे बिहार (वैसे लगभग पूरे देश में) में मूल्यांकन के संदर्भ में एक फिकरा अत्यंत प्रसि़द्ध है कि एक साल की पढा़ई तीन घंटे की लिखाई और

Continue readingपरीक्षा से अधिक कठिन है मूल्यांकन – कमलानंद झा

पहाड़ में कायांतरित होता आदमी -कमलानंद झा                                                 

Post Views: 1,031 सिनेमा                 पहाड़ पुरुष दशरथ मांझी के व्यक्तित्व ने एक बार फिर यह सिद्ध किया है कि ज्ञान, बुद्धिमत्ता और गहन संवेदनशीलता सिर्फ औपचरिक शिक्षा की मोहताज

Continue readingपहाड़ में कायांतरित होता आदमी -कमलानंद झा                                                 

दलित साहित्य: एक अन्तर्यात्रा – कमलानंद झा

Post Views: 408 पठनीय पुस्तक दलित साहित्य के लिए यह शुभ संकेत है कि अब हिंदी में भी लगातार आलोचनात्मक पुस्तकें प्रकाशित हो रहीं हैं। रचना के साथ-साथ आलोचना का

Continue readingदलित साहित्य: एक अन्तर्यात्रा – कमलानंद झा