Tag: अमित मनोज

‘मृत्यु’ शृंखला की चौंतीस कविताएँ – अमित मनोज

Post Views: 32 अपना लिखा भेजने में अमित मनोज के भीतर गहरा संकोच है। देस हरियाणा अमित मनोज से उनकी ये अप्रकाशित कविताएँ प्राप्त कर सका, इसके लिए हम अच्छा

Continue reading‘मृत्यु’ शृंखला की चौंतीस कविताएँ – अमित मनोज

होली – अमित मनोज

Post Views: 41 हाल ही में हरियाणा के देहात में जबरदस्त बदलाव हुए हैं। इन बदलावों के चलते परम्परागत त्यौहारों के प्रति भी एक विशेष किस्म की उदासीनता को महसूस

Continue readingहोली – अमित मनोज

चूड़ियाँ – अमित मनोज

Post Views: 50 अमित मनोज की कहानियों में गजब की सादगी है। ‘चूड़ियाँ’ कहानी में अमित मनोज ने गाँव देहात में व्याप्त तुच्छ ईर्ष्या प्रेरित जटिल अमानवीय घटनाओं को सरलता

Continue readingचूड़ियाँ – अमित मनोज

घास , भैंस और कलावती – अमित मनोज

Post Views: 61 बीसेक दिन पहले बारिश हुई थी। थोड़ी जोरों की। गाँव में सब जनों के चेहरे खिलखिला आये थे। एक बारिश का ही तो सहारा था किसानों को।

Continue readingघास , भैंस और कलावती – अमित मनोज

दो कविताएं- अमित मनोज

अमित मनोज हरियाणा केंद्रीय विश्विद्यालय के हिंदी विभाग में विभाग प्रभारी के रुप में कार्यरत हैं। लोक जीवन और सरल मुहावरा अमित मनोज की कविताओं की खासियत है। अमित के दो कविता संग्रह ‘कठिन समय में’ और ‘दुख कोई चिड़िया तो नहीं’ प्रकाशित हो चुके हैं। … Continue readingदो कविताएं- अमित मनोज

दुख कोई चिड़िया तो नहीं

Post Views: 226 डॉ. विजय विद्यार्थी जब भी कोई दुख पहुँचता है अमित मनोज यह गीत गाता है ‘दुख कोई चिड़िया तो नहीं’ यह अभिव्यक्ति न सिर्फ कवि के दुखी

Continue readingदुख कोई चिड़िया तो नहीं

कच्चे रास्तों का धनी-धोरी – अमित मनोज

Post Views: 1,127 जिमाड़ों में हमारी खास रूचि हो गई थी। स्कूल में पढ़ाते हुए हम और चीजों की बजाय खाने-पीने में ही ज्यादा ध्यान देते। आस-पास के जिमाड़ों में

Continue readingकच्चे रास्तों का धनी-धोरी – अमित मनोज

हरियाणा में हिन्दी कहानी का परिदृश्य

Post Views: 737 ज्ञान प्रकाश विवेक ज्ञान प्रकाश विवेक हरियाणा के प्रख्यात कथाकार हैं। उन्होंने नई कथा-भाषा का सृजन करते हुए कहानी को कलात्मक उच्चता प्रदान की है। अपने समय

Continue readingहरियाणा में हिन्दी कहानी का परिदृश्य

हरियाणा में रचित हिन्दी कविता की अर्धशती -राजेन्द्र गौतम

Post Views: 868 साहित्य हरियाणा में रचित समकालीन हिन्दी कविता पर बात करते हुए एक दिक्कत सामने आती है। कविता का पार्थक्य भाषाओं और अलग-अलग काल-खंडों के आधार पर तो

Continue readingहरियाणा में रचित हिन्दी कविता की अर्धशती -राजेन्द्र गौतम

किसानी का मतलब है मौत ! – अमित मनोज

Post Views: 539                 दिल्ली के जंतर-मंतर पर पिछले दिनों एक घटना घटी। वह यह कि वहाँ कुछ किसानों  ने अपना मूत्र इसलिए पी लिया था कि महीने भर तरह-तरह

Continue readingकिसानी का मतलब है मौत ! – अमित मनोज