गाँधी, अम्बेडकर और भगत सिंह के चिंतन की सांझी जमीन- प्रोफेसर जगमोहन

हरियाणा सृजन उत्सव में ‘गाँधी, अम्बेडकर और भगत सिंह के चिन्तन की सांझी जमीन’ विषय पर आयोजित परिसंवाद में शहीद भगत सिंह के भांजे व प्रख्यात चिंतक प्रो. जगमोहन सिंह ने अपने विचार व्यक्त किए. सत्र का संचालन हरविन्द्र सिंह सिरसा ने किया. प्रस्तुति देस हरियाणा टीम के युवा सदस्य योगेश शर्मा ने की है.

placeholder

रामकथा के प्रथम अन्वेषक फादर कामिल बुल्के – अमरनाथ

फादर बुल्के का विश्वास था कि ज्ञान- विज्ञान के किसी भी विषय की संपूर्ण अभिव्यक्ति हिन्दी में संभव है और अंग्रेजी पर आश्रित बने रहने की धारणा निरर्थक है. उनका दृढ़ विश्वास था कि हिन्दी निकट भविष्य में ही समस्त भारत की सर्वप्रमुख भाषा बन जाएगी.

placeholder

मानवीय संवेदना व जिजीविषा हमेशा ज़िंदा रहती है – सुभाष चंद्र

पुरानी होने से ही न तो सभी वस्तुएँ अच्छी होती हैं और न नयी होने से बुरी तथा हेय।विवेकशील व्यक्ति अपनी बुद्धि से परीक्षा करके श्रेष्ठकर वस्तु को अंगीकार कर लेते हैं और मूर्ख लोग दूसरों द्वारा बताने पर ग्राह्य अथवा अग्राह्य का निर्णय करते हैं।