placeholder

मेरे पीछे सूनी राहें और मेरे आगे चौराहा – बलबीर सिंह राठी

Post Views: 208 ग़ज़ल मेरे पीछे सूनी राहें और मेरे आगे चौराहा, मैं ही मंजि़ल का दीवाना मुझ को ही रोके चौराहा। हर कोई अपनी मंजि़ल के ख़्वाब सजा कर…

placeholder

दंगे में प्रशासन – विकास नारायण राय

Post Views: 298 विकास नारायण राय स्वतंत्र देश में 1947 के बाद पहली बार कहीं भी खुली राजकीय शह पर अल्पसंख्यकों के  खिलाफ हिंसा का व्यापक तां  व नवम्बर 1984…

placeholder

संघर्ष कथा – सहीराम

Post Views: 416 आंखिन देखी मैं कहता हूं, सुनी सुनायी झूठ कहाय। गाम राम की कथा सुनाऊं, पंचों सुनियो ध्यान लगाय। हल और बल कुदाली कस्सी, धान बाजरा फसल गिनाय।…

placeholder

रूठ गया हमसाया कैसे – बलबीर सिंह राठी

Post Views: 168 ग़ज़ल रूठ गया हमसाया कैसे, तुम ने वो बहकाया कैसे। जिस्म तो जिस्म था उसमें आखिर, इतना नूर समाया कैसे। तुमने अपने जाल में इतने, लोगों को…

placeholder

आपातकाल आज से कम ख़तरनाक था – रोमिला थापर

Post Views: 230 bbchindi.com से… पांच मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ़्तारी पर सवाल उठाते हुए सुप्रीम कोर्ट में जिन पांच लोगों ने याचिका दाख़िल की थी, उनमें इतिहासकार रोमिला थापर भी…

placeholder

परीक्षा से अधिक कठिन है मूल्यांकन – कमलानंद झा

Post Views: 1,357 मेरे बिहार (वैसे लगभग पूरे देश में) में मूल्यांकन के संदर्भ में एक फिकरा अत्यंत प्रसि़द्ध है कि एक साल की पढा़ई तीन घंटे की लिखाई और…

placeholder

घर की सांकल – बजरंग बिहारी तिवारी

Post Views: 363 बजरंग बिहारी तिवारी (हरपाल के कविता संग्रह घर की सांकल की समीक्षा) कविता जीवन की सृजनात्मक पुनर्रचना है। इस सृजन में यथार्थ, कल्पना, आकांक्षा, आशंका और संघर्ष के…

placeholder

तुम्हें ग़र अपनी मंजि़ल का पता है फिर खड़े क्यों हो – बलबीर सिंह राठी

Post Views: 579 ग़ज़ल तुम्हें ग़र अपनी मंजि़ल का पता है फिर खड़े क्यों हो, तुम्हारा कारवां1 तो जा चुका है फिर खड़े क्यों हो। उजाला तुम तो ला सकते…