placeholder

शहीद उधम सिंह की आत्मकथा – सुभाष चंद्र

Post Views: 1,163 सेवा देश दी जिंदड़ीए बड़ी ओखी, गल्लां करनियां ढेर सुखल्लियां ने। जिन्नां देश सेवा विच पैर पाइया उन्नां लख मुसीबतां झल्लियां ने। ये पंक्तियां मेरी जेब में…

placeholder

साहित्य का उद्देश्य -प्रेमचंद

Post Views: 11,171 साहित्य -चिंतन 1936 में प्रगतिशील लेखक संघ  के प्रथम अधिवेशन लखनऊ में प्रेमचंद द्वारा दिया गया अध्यक्षीय भाषण। यह सम्मेलन हमारे साहित्य के इतिहास में स्मरणीय घटना…

placeholder

जीवन में साहित्य का स्थान -प्रेमचंद

Post Views: 1,791 साहित्य-चिंतन        साहित्य का आधार जीवन है। इसी नींव पर साहित्य की दीवार खड़ी होती है। उसकी अटरियाँ, मीनार और गुम्बद बनते हैं लेकिन बुनियाद…

placeholder

मेरी पहली रचना -प्रेमचंद

Post Views: 276 उस वक्त मेरी उम्र कोई 13 साल की रही होगी। हिन्दी बिल्कुल न जानता था। उर्दू के उपन्यास पढऩे-लिखने का उन्माद था। मौलाना शहर, पं. रतननाथ सरशार,…

placeholder

शहीद उधम सिंह पर 30 अगस्त 1927 को सिटीअमृतसर में दर्ज एफ.आई.आर.

Post Views: 247 उधम सिंह की गिरफ्तारी 30 अगस्त 1927 को सिटी कोतवाली अमृतसर में दर्ज एफ.आई.आर. 327/139 की प्रति नंबर 5-24 (1) एफ.आई.आर. फौजदारी अपराध के संबंध में एक्ट…

placeholder

इंद्रनाथ मदान को पत्र -प्रेमचंद

Post Views: 466 प्रेमचंद अपनी नज़र मेेंं (कोई रचनाकार-कलाकार स्वयं को कैसे देखता है। यह जानना कम दिलचस्प नहीं होता। यह भी सही है कि किसी लेखक को सिर्फ उसके…