Category: हिंदी साहित्य का इतिहास

मध्यकालीन भक्ति-आन्दोलन और मानवीय सरोकार – डॉ. सेवा सिंह

भक्ति आंदोलन के उद्भव और मूल्यांकन का इतिहास बोध तथाकथित भारतीय पुनर्जागरण की हिन्दुवादी दृष्टि से ग्रस्त है। इसके अन्तर्गत भारतीय इतिहास के उत्तर मध्यकाल की समस्त उपलब्धियों को नजरन्दाज करने के प्रयास में भक्ति आन्दोलन के योगदान की छवि नहीं बन सकी। भारतीय पुनर्जागरण के उपजीव्य दर्शनिक स्रोत वेद और वेदान्त हैं। इस दृष्टिकोण से यह धारणा पल्लवित हुई है कि भारतवर्ष पिछले आठ सौ वर्षों से परतन्त्र रहा है। इसका अनुसिद्धान्त है इस्लाम की प्रतिक्रिया में भक्ति आन्दोलन का उद्भव । (लेख से ) … Continue readingमध्यकालीन भक्ति-आन्दोलन और मानवीय सरोकार – डॉ. सेवा सिंह