placeholder

टैक्सों का बोझ – चौधरी छोटू राम

Post Views: 343 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह किसान बड़ा मंदा भाग्य लिखवाकर पैदा हुआ है। दुनिया की जितनी अच्छी चीजें हैं, वे सब इससे दूर भागती हैं। जितनी बुरी…

placeholder

राम लगती बात – चौधरी छोटू राम

Post Views: 412 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह किसान कहता है कि मैं सरकार की रईयत हूं। मुझे सरकार को टैक्स देने में कोई आपत्ति नहीं। मेरे हिस्से का जो…

placeholder

बोलना सीख – चौधरी छोटू राम

Post Views: 435 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह जब मैंने यह सिलसिला शुरू किया तो इसको चारों ही लेखों पर समाप्त करने का इरादा था, लेकिन मुझे विश्वास दिलाया गया…

placeholder

साहूकार का फंदा – चौधरी छोटू राम

Post Views: 474 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह बादल आया। वर्षा होने की संभावना हुई। किसान ने कस्सी कंधे पर रखी और खेत की राह ली। समझता है कि अगर…

placeholder

कागजी हकूमत – चौधरी छोटू राम

Post Views: 367 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह जी चाहता है कि शिमला की ऊंची पहाड़ियों पर रहने वाले सरकारी अफसरों को और लाहौर की ठंडी सड़क और सुंदर पार्कों…

placeholder

ललकार – चौधरी छोटू राम

Post Views: 425 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह वर्तमान युग तरक्की का युग है, विज्ञान का युग है, ज्ञान और हुनर का युग है, भाषण और लिखाई का युग है,…

placeholder

अदालत जारी है …- कर्मजीत कौर किशांवल

Post Views: 367 कर्मजीत कौर किशांवल  पंजाबी से अनुवाद परमानंद शास्त्री                                       (कर्मजीत कौर किंशावल पंजाबी की कवयित्री हैं, गगन दमामे दी ताल कविता संग्रह प्रकाशित हुआ है। इनकी कविताएं…

placeholder

आज का कन्हैया -कर्मजीत कौर किशांवल,

Post Views: 339 कर्मजीत कौर किशांवल  पंजाबी से अनुवाद परमानंद शास्त्री                                       (कर्मजीत कौर किंशावल पंजाबी की कवयित्री हैं, गगन दमामे दी ताल कविता संग्रह प्रकाशित हुआ है। इनकी कविताएं…

placeholder

धर्म का राज- कर्मजीत कौर किशांवल

Post Views: 131 कर्मजीत कौर किशांवल की कविताएं  पंजाबी से अनुवाद परमानंद शास्त्री                                       (कर्मजीत कौर किंशावल पंजाबी की कवयित्री हैं, गगन दमामे दी ताल कविता संग्रह प्रकाशित हुआ है।…

नदियों के बारे में नीग्रो का कहना है –  लैंग्स्टन ह्यूज़

Post Views: 303  लैंग्स्टन ह्यूज़ (1902-1967) अनुवाद – दिनेश दधीचि नदियों को जाना है मैंने नदियाँ जो प्राचीन बहुत हैं; उतनी जितनी अपनी दुनिया. मानव की नस-नस में बहता रक्त…