placeholder

मां के कंगन (लघुकथा) – विनोद वर्मा 'दुर्गेश

आशा मन ही मन उस ईश्वर का धन्यवाद कर रही थी कि उसे एक खुद्दार पति मिला है। वह अपनी खुशी को भुलाकर रजत के साथ मां के कंगन और झुमके देने चल पड़ी।

placeholder

   रत्नकुमार सांभरिया की लघु कथाएं

Post Views: 237 लघु-कथा धर्म-धंधा             मोहल्ले का मंदिर एक अर्से से अर्द्धनिर्माण पड़ा हुआ था। दीवारें बन चुकी थीं, छत की दरकार थी। मूर्तियां प्राण-प्रतिष्ठित थीं, अतः श्रद्धालुओं की…